Our social:

Sunday, 6 November 2016

Best Paani dialogue from Thodasa Roomani Ho Jaayen of Nana Patekar





Nana Patekar “Thoda sa Rumani Ho Jaaye” movie promises to bring rain in a drought affected area for 5000 Rs. One guy asks if it is real rain, he says:

Haan mere dost, wahi barish, 
Wahi Barish jo asmaan se aati hai
Boondo mein gaati hai
pahaadon se fisalti hai
nadiyon mein chalti hai
nehro mein machalti hai
kuen pokhar se milti hai
khaprailon par girti hai
galiyon mein firti hai
mod par sambhalti hai
fir aage nikalti hai

yeh barish aksar gili hoti hai,
isey paani bhi kehte hai,
urdu mein “aab”
marathi mein “paani”
tamil mein “tanni”
kannad mein “neer” aur bangla mein “jol” kehte hai

wahi sanskrit mein jise waari neer jeevan, paey, amrut udh, ambu bhi kehte hai
greek mein ise “aqua puraa”
angrezi mein isse “water” 
french mein “auoo”
aur chemistry mein “H2O” kehte hai

"yeh paani aankh se dhaltaa hai toh aansoo kehlata hai
lekin chehre pe chad jaye to rubaab banjaata hai"
koi sharm se paani paani ho jaata hai
aur kabhi kabhi yeh paani sarkari file’o mein apne kuen sameth chori hojaata hai

paani toh paani hai paani zindagani hai
isiliye jab rooh ki nadi sukhi ho
mann kaa hiran pyasa ho
dimag mein lagi ho aag
aur pyaar ki ghagar khali ho tab
aur tab mein hamesha yeh baarish naam ka gila paani lene ki rai deta hoon.

In Marathi 

हां मेरे दोस्त, वही बारिश वही बारिश जो आसमान से आती है
बूँदो में गाती है
पहाड़ों से फिसलती है
नदियों में चलती है
नहरो में मचलती है
कुएँ पोखर से मिलती है
खपरालो पर गिरती है
गलियों में फिरती है
मोड़ पर संभलती है
फिर आगे निकलती है

यह बारिश अक्सर गीली होती है
इसे पानी भी कहते है
उर्दू में आब
मराठी में पानी
तमिल में तन्नी
कन्नड़ में नीर और बांग्ला में जोल कहते है

वही संस्कृत में जिसे वारी नीर जीवन, पालेय, अमृत युद्ध, अंबु भी खेचते है 
ग्रीक में इसे आक्वा पूरा
अँग्रेज़ी में इससे वॉटर भी कहते है
फ्रेंच में औऊ
और केमिस्ट्री में H20 कहते है
यह पानी आँख से ढलता है तो आँसू कहलाता है
लेकिन चेहरे पे चाड जाए तो रुबाब बन जाता है
कोई शर्म से पानी पानी हो जाता है
और कभी कभी यह पानी सरकारी फाइल’ओ में अपने कुएँ समेत चोरी हो जाता है
पानी तो पानी है पानी ज़िंदगानी है
इसीलिए जब रूह की नदी सुखी हो
मन का हिरण प्यासा हो
दिमाग़ में लगी हो आग
और प्यार की गागर खाली हो तब मे हमेशा यह बारिश नाम का गीला पानी लेने की राय देता हूँ

0 comments:

Post a Comment